Accessibility Page Navigation
Style sheets must be enabled to view this page as it was intended.
The Royal College of Psychiatrists Improving the lives of people with mental illness

कोगनीटिव बिहेवियर थरेपी

Cognitive Behavioural Therapy (CBT)

 

 

उद्देश्य

यह पुस्तिका उन सभी लोगो के लिये उपयोगी है जो (Cognitive Therapy) के बारे मे विस्तार से जानना चाह्ते है। इस पुस्तिका मे इस बात की विवेचना की गयी है कि यह कैसे काम करता है, यह क्यों उपयोग किया जाता है, इसके क्या प्रभाव है, क्या दुष्प्रभाव है और उपचार के अन्य तरीके क्या है। यदि आपको वह जानकारी ना मिले, जो आप चाहते है तो कृपया पुस्तिका के अन्त मे दिये गये अन्य श्रोता से आप सूचनाएँ प्राप्त कर सकते है।

 

सी बी टी क्या है

यह निम्न विषयों के बारे मे बात  करने का एक तरीका है-

  • आप अपने बारे मे कैसे सोचते है, दुनिया मे और दूसरे लोगों के बारे मे कैसे सोचते है।                
  • आपके कार्य  कैसे आपके विचारो एवं भावनाओं को प्रभावित करते है।

 

सी बी टी आपको अपने सोचने के तरीके में कागनिटिव(Cognitive) एवं अपने आचरण में बदलाव लाने

में मदद कर सकता है। ये बदलाव आपको बेहतर महसूस करने में मदद कर सकते है। अन्य

तरीके के बातचीत वाले उपचार से भिन्न, सी बी टी अभी की दिक्कतों एवं परेशानियों पर प्रकाश डालता है। आपकी परेशानियों के कारणों एवं पिछ्ले लक्षणों के बजाय सीबीटी(CBT) मन के ताजा हालात को ठीक करने में मदद करता है।

निम्नलिखित बीमारियों में सी बी टी मददगार साबित हुआ है-

 

  • ऍसाइटी
  • अवसाद
  • पैनिक
  • एगोराफोबिया
  •  सोशल फ़ोबिया
  • बुलिमिया
  • आबजेसिव कम्पलरसिव डिसाडर
  • पोष्ट्रमिटिक
  • सिजो स्कीजोफ़्रीनिच

 

यह कैसे कार्य करता है

सी बी टी आपकी परेशानियों को विभिन्न को हिस्सों में रखकर आपको उन्हे समझने में मदद  करता है इससे यह समझ पाना आसान हो जाता है कि उनमें आपस में क्या सम्बन्ध है और वो आपको कैसे प्रभावित कर रहे है ये निम्नलिखित है:

  • समस्या- कोई मुश्किल, घटना या कठिन परिस्थिति में उपजे-
  • विचार
  • भावना
  • शारीरिक लक्षण
  • व्यवहार

इनमें से प्रत्येक चीज को प्रभावित कर सकता है। जैसे किसी परेशानी के बारे में आपके विचार आपकी भावनाओं और आपके शारीरिक लक्षणों को प्रभावित कर सकते है। आप क्या करेंगे आपके विचार इस बात को प्रभावित कर सकते है।

 

उदाहरण :   

परिस्थिति-

जैसे किसी दिन आप बहुत परेशान थे,बहुत थका हुआ महसूस कर रहे थे, इसलिए

आप सड़क पर निकले कोई परिचित आपके पास से गुजरा परन्तु उसने आपकी उपेक्षा की।

 

 

अनुचित

उचित

विचार-

 

उसने मेरी उपेक्षा की क्यो कि वह मुझे पसन्द नही करता

वह अपने आप में खोया हुआ दिखा, मुझे आश्चर्य है कि उसके साथ कुछ गड़बड़ है।

 

भावना-  

 

उदास,बुझा हुआ,उपेक्षित

दूसरे के लिए चिन्तित

शारीरिक

लक्षण

 

पेट मे एंठन शरीर मे कमजोरी आपने को बीमार महसूस करना

कुछ नहीं आपने को आराम मे  महसूस

करना।

 

 

व्यवहार-

 

आप अपने घर चले गये लोगो से मिलना जुलना बन्द कर दिया

उन लोगो से मिलकर यह जानकारी ली कि लोग ठीक तो है।  

 

इस तरह एक ही परिस्थिति के दो भिन्न तरह के परिणाम आये परिस्थिति के बारे मे आपकी सोच पर निर्भर किया। आप की सोच ने आपकी भावना व आपके कार्य को प्रभावित किया।

उदाहरण के बाएँ कालम में आप सीधे निष्कर्ष पर पहुँच गये बिना उचित प्रमाण के। इसका

असर यह हुआ कि-

  • आपके अन्दर कष्टदायक भावनाएँ पैदा हुई।
  • आपने अनुचित व्यवहार किया।

यदि आप उदास मन से घर जाते हैं तो सम्भव है कि आप जो हुआ, उसी बारे में सोचते  रहेंगे। आप बहुत खराब अनुभव करेंगे। यदि आप दूसरे व्यक्ति से मिलेंगे तो इस बात की ज्यादा सम्भावना है कि आप अपने बारे में अच्छा महसूस करेंगे। यदि आप ऐसा नही करते  है तो दूसरे व्यक्ति के प्रति कोई भी गलतफहमी दूर करने का अवसर आपको नही मिलेगा और आप बुरा महसूस करेंगे।

घटनाओं को देखने का यह एक सामान्य तरीका है पूरी घटनाक्रम या इसका कुछ अंश फीडबैक देता है जैसे यह घातक च्रक्र आपको बुरा महसूस करने के लिए बाध्य कर सकता है। इससे नयी परिस्थितियां पैदा हो सकती है जिसमें भी आपको खराब महसूस हो। आप अपने बारे में अनुचित सोचना शुरु कर दें। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब हम परेशान होते है तो बहुत या हम सीधे परिणाम सोचने लगते हैं और चीजों को अधिकतम एवं असामान्य तरीके से सोचने लगते है।

सी. बी. टी. आपके इस बदले हुए विचारो, भावनाओं एवं व्यवहार के घातक चक्र को तोडने में मदद करता है  जब आप घटनाओं को टुकड़ो में स्पष्ट देखते हैं तब आप उनको बदल सकते हैं और इस तरह इस बात को भी बदल सकते हैं कि आप कैसा महसूस करते हैं।  सी बी टी का उद्देश्य वहाँ तक पहुँचना होता हैं कि जब आप स्वंय कर सकें और इस समस्याओं को हल करने का अपना रास्ता ढूँढ सकें ।

 

पंच्क्षेत्रीय मूल्यांकन

उपरोक्त वर्णित पाँच क्षेत्रों को जोडने का यह एक दूसरा तरीका है।यह दूसरों के साथ हमारे सम्बन्ध बनाता है और हमें इस बात को समझने मे मदद करता है कि यह सम्बन्ध हमे कैसे अच्छा या बुरा महसूस करा सकता है। अन्य मुद्दे जैसे कर्ज, नौकरी, घर की समस्याएं भी महत्त्वपूर्ण है। अगर आप एक क्षेत्र में सुधार ला सकते है तो बहुत सम्भव है कि आप अन्य क्षेत्रो मे भी इसी प्रकार सुधार ला सकते हैं।

 

सी बी. टी. मे क्या सम्मिलित होता है

सी बी टी मे व्यक्तिगत तौर पर किया जा सकता या समुदाय मे किया जा सकता है यह स्व-सहायक पुस्तक या कम्प्यूटर प्रोग्राम द्वारा भी किया जा सकता है ।

इंगलैंड एवं वेल्स में दो कम्प्यूटर आधारित प्रोग्राम राष्ट्रीय स्वास्थय सेवा द्वारा प्रयोग किये जाने हेतु स्वीकृत है। “फीयर फाइटर (Fear Fighter)” फोबिया एवं पैनिक अटैक (Panic attack) के मरीजों के लिए तथा “बीटिंग द ब्ल्यूज़ (Beating the Blues)” माइल्ड (Mild) एवं माडरेट (Moderate) डिप्रेशन के मरीजों के लिए उपयुक्त है ।

  • यदि आप व्यक्तिगत चिकित्सा लेते हैं यदि आप प्राय: चिकित्सक से 5-20 के बीच,हर एक सप्ताह या 15 दिन पर मिलते हैं। प्रत्येक सत्र 30-60- मिनट का होता है।
  • पहले 2-4 सत्र में चिकित्सक यह देखता है कि क्या आप इस तरह की चिकित्सा ले सकते है और आप यह देखते है कि क्या इससे आपको आराम महसूस होता है।
  • चिकित्सक आपकी पिछली जिन्दगी एवं आप के प्रष्ठभूमि के बारे मे भी सवाल पूंछ सकता है। यद्यपि सी बी टी “आज और अब” पर केंद्रित करता है, कभी-कभी आपको पिछली जिन्दगी के बारे मे बात करने की आवश्यकता हो सकती है इस बात को समझने के लिए कि वो आपके वर्तमान को कैसे प्रमाणित कर रहा है।
  • आप यह निश्चय करते है कि आप को लघु कालीन ,मध्यम एवं दीर्घकालीन किन चीजों पर विचार करना है।
  • आप और चिकित्सक प्राय: इस बात पर सहमत होकर शुरुवात करते हैं कि किस बात पर विचार करना है।

कार्य

  • चिकित्सक के साथ मिलकर आप अपनी अलग अलग हिस्सो में विभाजित करते हैं जैसे उपरोक्त उदाहरण मे बताया गया है।इस प्रक्रम मे सहायता के लिए आपका चिकित्सक आपको डायरी बनाने के लिए भी कह सकता है।यह आपको आपनी व्यक्तिगत सोच ,भावनाएं, शारीरिक अनुभव एवं व्यवहार को पहचानने मे मदद करता है।
  • मिल जुलकर दोनो निम्न प्रश्नो का हल निकालने के लिए आपके विचारों कि क्या ये यथार्थवादी  नहीं है या ये अनुपयोगी है।
  • कि ये आपस में एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते है और आपको कैसे प्रभावित करते है।
  • तब चिकित्सक आपको आपके अनुपयोगी विचारो एवं व्यवहार बदलाव को प्राप्त करने मे आपकी सहायता करता है।
  • किसी काम को करने के बारे मे बात करना आसान होता है परन्तु उसे करना उतना ही कठिन होता है। जब आप इस बात को पहचान लेते है कि बदलना है,तब आपका चिकित्सक आपको ग्रह कार्य का परामर्श देगा कि आप इन परिवर्तनों को अपने दिनचर्या मे शामिल करें। परिस्थिती के अनुसार,आप शुरुवात कर सकते हैं –
  • अपनी आलोचना करने वाले और बेचैन कर देने वाले विचारो के प्रश्न करना और उनको सकारात्मक विचारों से विस्थापित करना जो आपने सी0 बी0 टी0 से सीखा है।
  • इस बात को पहचानना कि आप कुछ एसा करने वाले है जिससे आपको बुरा महसूस होगा और करना आपके लिए उपयोगी हों।
  • प्रत्येक मुलाकात पर आप परिचर्चा करिए कि पिछले सत्र से आपको कितना फायदा हुआ अगर कोई काम आपको कठिन लगता है।
  • जो आप नही करना चाहते है उस काम के लिए वे आपको नही कहेंगें । यह आप तय करते है कि आपके इलाज की रफ़्तार क्या होनी चाहिए, आप क्या कर सकते हैं और क्या नही। सी0बी0टी0 की मजबूती यह है कि सत्र समाप्त हो जाने के बाद भी आप अभ्यास जारी रख सकते हैं और अपनी दक्षताओं का विकास कर सकते हैं। ऐसा करने से इसकी सम्भावना कम हो जाती है कि आपकी समस्याएँ व लक्षण वापस आएँ।

सी0बी0टी0 कितना प्रभावी है

  • घबड़ाहट या उदासी मुख्य समस्या होती है,वहाँ के लिए यह सबसे प्रभावी उपचारों में एक है।
  • मध्य श्रेणी और तीक्ष्ण श्रेणी के उदासी के लिए यह सबसे प्रभावी  मनोचिकित्सा है।
  • कई तरह के उदासी के लिए यह एन्टीडिप्रेसेन्ट (antidepressants) के समतुल्य उपचार है।

 

और किस तरह के उपचार उपलब्ध हैं और उनकी तुलना सी0बी0टी0 से कैसे की जा सकती है।

सी0बी0टी0 बहुत सारी परिस्थितियों में उपयोगी है इसलिए इस पुस्तिका में उन सबको लिखना संभव नही है उदासी और घबड़ाहट जैसी समस्याओं के लिए और विकल्पों पर विचार कर सकते हैं।

सी0बी0टी0 प्रत्येक के लिए नही है, बातचीत के जरिये किया जानेवाला अन्य उपचार आपके लिए बेहतरी हो सकता है।

  • कई तरह की उदासी की परेशानियों में सी0बी0टी0 एन्टीडिप्रेसेंट (antidepressants)  के समान प्रभावी है। घबड़ाहट को ठीक करने मे एन्टीडिप्रेसेंट (antidepressants)  से थोड़ा ज्यादा प्रभावी हो सकती है।
  • तीक्ष्ण श्रेणी के लिए एन्टीडिप्रेसेंटस (antidepressants)  के साथ ही सी0बी0टी0 उपयोग करना चाहिए।
  • जब आप अपने आप को बहुत उदास महसूस करते है तब यह काफी मुश्किल होता है कि आप अपने सोचने के नजरिए को बदल पाए जब तक कि एन्टीडिप्रेसेंट (antidepressants)  से आप थोड़ा अच्छा महसूस करना ना शुरु कर दें।
  • घबड़ाहट के लिए ट्रेक्वीलाइजर (tranquillisers) को लम्बे समय तक इलाज के लिए उपयोग नही करना चाहिए सी0बी0टी0 एक अच्छा विकल्प है।

 

सी0बी0टी0 के साथ समस्याएँ

  • यदि आप उदासी का अनुभव कर रहे होते है और ध्यान लगाने मे काफी कमी होती है तो सी0बी0टी0 या किसी भी साइकोथैरपी को समझना पहले-पहले मुश्किल होता है।
  • यह आपको निराश और बेचैन कर सकता है। एक अच्छा चिकित्सक आपके सत्र  को गति दे सकता है जिससे आप जो काम करना चाहते हैं उससे सामना कर सकते हैं।

कभी कभी उदासी, घबड़ाहट, लज्जा या क्रोध के अनुभव के बारे मे बात करना मुश्किल हो सकता है।

 

कब तक उपचार चलेगा

6 सप्ताह से लेकर 6 महिने तक इलाज चल सकता है। यह बात पर निर्भर करेगा कि आप कि समस्या किस तरह की है और यह आपके लिए किस तरह काम कर रही है। सी0बी0टी0 की उपलब्धता विभिन्न क्षेत्रो मे भिन्न होती है।यह भी हो सकता है कि इलाज के लिए इन्तज़ार करना पड़े। 

 

यदि लक्षण पुन: आते है तो क्या करना होगा

  • यह खतरा हमेशा बना रहता है कि उदासी और घबड़ाहट वापस आ सकता है। यदि ऐसा होता है तो आपकी सी0बी0टी0 दक्षताओ से इनको रोकना आसान हो जाता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि अच्छा महसूस करने के बावजूद भी हमे सी0बी0टी0 दक्षताओ का अभ्यास करते रहना चाहिए।
  • कुछ शोध है जो यह बताते हैं कि उदासी को वापस आने से रोकने में सी0बी0टी0 एन्टीडिप्रेसेन्टस से बेहतर हो सकती है। अगर जरुरी हो तो आप पुन: चर्चा कर सकते हैं।

 

हमारे जीवन पर सी0बी0टी0 का प्रभाव पड़ता है

उदासी और घबड़ाहट अच्छा महसूस नही होता है। वे हमारे कार्य करने की क्षमता और जीवन के आनन्द को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं। सी0बी0टी0 इन लक्षणों को रोकने में हमारी मदद करती है। इसको करने में समय देने के अलावा आपके नकारात्मक प्रभाव होने की सम्भावना काफी कम होती है।

 

अगर हम सी0बी0टी0 नही कर सकते तो क्या होगा

आप अपने चिकित्सक से और विकल्पों के बारे में विचार-विमर्श कर सकते हैं। आप यह भी कर सकते हैं-

  • इस इलाज और इसके विकल्पों के बारे में और अधिक पढ़ सकते है
  • यदि आप पहले यह जानना चाहते हैं कि यह आपके लिए उपयोगी कि नहीं तो आप सेल्फ़ हेल्प बुक या सी डी रोम की सहायता ले सकते हैं।
  • यदि आपको आगे किसी भी तरह का फायदा होता है, आप का मन बदलता तो बाद में आप सी0बी0टी0 के लिए कभी भी कह सकते हैं।

 

उपयोगी सी0बी0टी0 वेब लिक्स:

ब्रिटिश एसोसिएशन फ़ार बिहेविरल एन्ड कागनिटिव साइकोरेपीस (British Association for Behavioral and Cognitive Psychotherapieswww.babcp.com

 

केलिप्सो वेबसाइट (Calipso website): www.calypso.co.uk

 

बीटिंग द ब्लूज (Beating the Blues): www.ultrasis.com/products/product.jsp?product_id=1

 

सी0बी0टी0 के बारे में और जानकारी के लिए (www.psychnet-uk.com/psychotherapy/psychotherapy_cognitive_behavioural_therapy.htm)

 

पुस्तकें:

दि ओवर कमिंग सिरीज; कान्टेबल एन्ड रोबिन्सन  (The 'Overcoming' series, Constable and Robinson)

सी0बी0टी0 पर आधारित प्रचुर मात्रा मे सेल्फ़ हेल्प किताबें उपलब्ध है जो लोगो को   बहुत सी सामान्य समस्याओं का सामना करने में मदद करती हैं।

जिनके शीर्षक हैं- ओवर कमिंग सोसल एन्जाइटी एन्ड ओवर कमिंग लो सेल्फ स्टीम

 

मुफ्त ऑन लाइन सी0बी0टी0 रिसोर्सैस:

मूडजिम (Mood Gym) www.moodgym.anu.edu.au

सूचनाएँ, मजाक की वस्तुएँ खेल और दक्ष प्रशिक्षण उदासी को रोकने में मदद करती हैं।

 

लिविंग लाइफ टू द फुल (Living Life to the Full) www.livinglifetothefull.com

 डिस्ट्रेस महसूस करने वाले तथा उनका ख्याल करने वाले लोगों के लिए मुफ्त ऑनलाइन द कोर्स। यह इस बात को समझने में मदद करता है कि जैसा आप करते हैं वैसा क्यों महसूस करते हैं और यह आपको आपके विचार, क्रियाकलाप, आवश्यकता और सम्बन्धों में बदलाव के लिए मदद करता है।

 

फियर फाइटर (Fear Fighter) www.fearfighter.com 

इंग्लैंड और वेल्स के डॉक्टरों द्वारा ली यह मुफ्त सेवा उपलब्ध हो सकती है

 

रिफरेन्सेस

विलियम्स सी.जे. (2001), ओवर कमिंग डिप्रेशन: ए फाइव एरिया एप्रोच: लन्डन होउर एर्नाल्ड apt.rcpsych.org/cgi/content/full/8/3/172

 

डिपार्टमेन्ट आफ हेल्थ (2001) ट्रीटमेन्ट च्वाइस इन साइकोलॉजिकल थैरेपीस एन्ड काउन्सलिंग लन्डन: एच.एम.एस.ओ

 

नाइस [एन0आई0सी0ई0] (2004) CG9 ईटिंग डिसआर्डरस:कोर इन्टरवेन्शन्स इन दि ट्रीट्मेन्ट एन्ड मैनेजमेंट आफ एनोरेक्सिया नर्वोसा, बुलीमिया नर्वोसा और सम्बन्धित रोग- नाइस गाइड लाइन जनवरी. www.nice.org.uk/pdf/cg009nice%20guidanee.pdf

 

नाइस [एन0आई0सी0ई0](2004)एन्जाइटी: (NICE, 2004). मैनेजमेंट ऑफ एन्जाइटी (पैनिक डिस्आर्डर, विथ आर विथआउट एगोराफोबिया  जनराइज्ड एन्जाइटी डिस्आर्डर) इन एडल्ट्स इन प्राइमरी एन्ड कम्युनिटी केयर www.nice.org.uk/page.aspx?O=235395%20

 

[एन0आई0सी0ई0] डिप्रेशन (NICE, 2004)

मैनेजमेंट ऑफ डिप्रेशन इन प्राइमरी एन्ड सेकेन्डरी केयर एन0आई0सी0ई0 गाइड लाइन्स दिसम्बर www.nice.org.uk/page.aspx?o=23562

 

और जानकारी के लिए सम्पर्क करें:

डिप्रेशन एलाएन्स,35-वेस्ट मिन्सरर ब्रिज रोड, लदंन SE 17JB. डिप्रेशन एलाएन्स के यू0के0 मे तीन कार्यालय हैं:

आप उनकें रीजनल इन्फार्मेशन लाइन्स में उनके मुख्य न0-0845-1232320 से सम्पर्क कर सकते हैं: www.depressionalliance.org

नेशनल फोबिक्स सोसाइटी जियोन कम्युनिटी रिसोर्स सेन्टर, 339 स्ट्रेफोर्ड रोड, हल्मे, मान्चेस्टर m15 4zy. यदि आपको कोई घबड़ाहट वाली परेशानी या स्पेसिफिक फोबिया हो या होने की समभावना हो तो ये आपको सहायता प्रदान करते हैं।


यह लीफलेट “ रायल कॉलेज ऑफ सायकिएट्रिस्ट्स “ पब्लिक एजुकेशन एडीटोरियल बोर्ड द्वारा प्रोड्यूस किया गया।

  • सम्पादक: डाँ फिलिप टिम्स
  • लीफलेट के बारे मे
  • पढ़ने वालों के वक्त्तव्य
  • अपडेटेड- मार्च 2007

The original leaflet was produced by the Royal College of Psychiatrists' Public Education Editorial Board.

Series Editor:   Dr Philip Timms

With grateful thanks to Dr Ashok Kumar and Professor Trivedi for translating this information into Hindi.


© 2007 रायल कॉलेज ऑफ सायकिएट्रिस्ट्स

इस लीफलेट को डाउन लोड किया जा सकता है, प्रिन्ट आउट निकाला जा सकता है फोटोकापी कराकर निः शुल्क दिया जा सकता है जब तक कि रायल कालेज की गरिमा बनी रहे तथा इसका कोई फायदा नहीं उठाया जाता। इसको फिर से किसी और तरीके से रिप्रोड्यूस करने के लिए प्रकाशक मुख्य की अनुमति लेना जरूरी है कालेज इस लीफलेट को और किसी साइट में रिपोजिट करनें की अनुमति नहीं देता है लेकिन उन्हें सीधे जोड़ने की अनुमति देता है।

पब्लिक एजूकेशन मटेरियल का सूचीपत्र ( कैट्लाग ) या लीफलेट की प्रतियों के लिए सम्पर्क करें-

RCPsych logo

 

Leaflets Department

Royal College of Psychiatrists

17 Belgrave Square

London SW1X 8PG

चैरिटी रजिस्ट्रेशन नम्बर

 

Registered Charity in England and Wales 228636 and SC038369 in Scotland


Please note that we are unable to offer advice on individual cases. Please see our FAQ for advice on getting help.

feedback form feedback form

Please answer the following questions and press 'submit' to send your answers OR E-mail your responses to dhart@rcpsych.ac.uk

On each line, click on the mark which most closely reflects how you feel about the statement in the left hand column.

Your answers will help us to make this leaflet more useful - please try to rate every item.

 

This leaflet is:

Strongly agree

Agree

Neutral

Disagree

Strongly Disagree

  Strongly Agree Strongly Agree Agree Neutral Disagree Strongly Disagree Strongly Disagree
Readable
           
Useful
           
Respectful, does not talk down
           
Well designed
           

Did you look at this leaflet because you are a (maximum of 2 categories please):

Age group (please tick correct box)